ये दिल हैं मुश्किल / मैं लिखता नहीं हूँ / छलांग / शायर के अफसाने / दूर चले / शिव की खोज / गली / सर्द ये मौसम हैं / कभी कभी-2 / कभी कभी / मेरे घर आना तुम / शादी की बात - २ / धुप / क्या दिल्ली क्या लाहौर / बड़ा हो गया हूँ / भारत के वीर / तुम्हे / अंतिम सवांद / बाबु फिरंगी / प्रोटोकॉल / इश्क / कसम / चाँद के साथ / शब्दों का जाल / तुने देखा होता / वियोग रस / हंगामा / साली की सगाई / राखी के धागे / संसद / अरमान मेरे / कवितायेँ मेरी पढ़ती हो / रात का दर्द / भूख / बूढी माँ / जिनके खयालो से / इश्क होने लगा है / रंगरेज़ पिया / तुम / मेरी कविताये यु न पढ़ा करो / ट्रेफिक जाम / तेरा ख्याल / लोकतंत्र का नारा / मेरे पाँव / सड़के / वो शाम / शादी की बात / रेत का फूल / वो कचरा बीनता है / भीगी सी याद / ख़ामोशी / गुमनाम शाम / कवि की व्यथा / कभी मिल गए तो / दीवाने / माटी / अग्निपथ / गौरिया / लफंगा सा एक परिंदा / भूतकाल का बंदी / इमोशनल अत्याचार / तेरी दीवानी / नीम का पेड़ / last words / परवाना / लोरी / आरज़ू / प्रेम कविता / रिश्ते / नया शहर / किनारा / एक सपना / ख्वाहिश / काश / क्या कह रहा हु मैं / future song / naqab / duriya / sharabi / Zinda / meri zindagi / moksha / ranbhoomi / when i was old / you n me / my gloomy sunday / the little bird / khanabadosh / voice of failure / i m not smoker

Wednesday, September 05, 2012

अंतिम सवांद

प्यार ऐसा भी क्या, जो फिर दिल पछताए
दे न पाउँगा कुछ भी, झूटे वादों के सिवाए
ख्वाब न सजाओ जो, तुमको कल रुलाये
जो कल आंसू आयेंगे तो पोंछ भी न पायोगी
 
अपनों के भेष में छुपे, सब अदाकार हैं पराये
आओ न मेरी दुनिया में, वीराने के हैं साए
तुम्हारे अहसास सारे, हालात से कुर्बान न हो जाये
जो कल अहसास न होंगे, तो कुछ कह भी न पायोगी
 
क्यूँ मेरे साथ कोई, पत्थर पर नंगे पाँव चले  
ज़िन्दगी की धुप में, क्यूँ कोई और संग तपे
कमसिन उम्र ये क्यूँ, लू के थपेड़ो में जले
जो कल उम्र झुलस गयी, तो क्या न पछ्तायोगी
 
अभी इश्क के मौसम, गायेंगे और भी तराने
तेरे हुस्न के होंगे, और भी बहुत से दीवाने
फिर दिल में कोई, आएगा अपना घर बसाने
जो कल दिल ही टुटा, तो फिर किसे बसा पायोगी  

No comments: