ये दिल हैं मुश्किल / मैं लिखता नहीं हूँ / छलांग / शायर के अफसाने / दूर चले / शिव की खोज / गली / सर्द ये मौसम हैं / कभी कभी-2 / कभी कभी / मेरे घर आना तुम / शादी की बात - २ / धुप / क्या दिल्ली क्या लाहौर / बड़ा हो गया हूँ / भारत के वीर / तुम्हे / अंतिम सवांद / बाबु फिरंगी / प्रोटोकॉल / इश्क / कसम / चाँद के साथ / शब्दों का जाल / तुने देखा होता / वियोग रस / हंगामा / साली की सगाई / राखी के धागे / संसद / अरमान मेरे / कवितायेँ मेरी पढ़ती हो / रात का दर्द / भूख / बूढी माँ / जिनके खयालो से / इश्क होने लगा है / रंगरेज़ पिया / तुम / मेरी कविताये यु न पढ़ा करो / ट्रेफिक जाम / तेरा ख्याल / लोकतंत्र का नारा / मेरे पाँव / सड़के / वो शाम / शादी की बात / रेत का फूल / वो कचरा बीनता है / भीगी सी याद / ख़ामोशी / गुमनाम शाम / कवि की व्यथा / कभी मिल गए तो / दीवाने / माटी / अग्निपथ / गौरिया / लफंगा सा एक परिंदा / भूतकाल का बंदी / इमोशनल अत्याचार / तेरी दीवानी / नीम का पेड़ / last words / परवाना / लोरी / आरज़ू / प्रेम कविता / रिश्ते / नया शहर / किनारा / एक सपना / ख्वाहिश / काश / क्या कह रहा हु मैं / future song / naqab / duriya / sharabi / Zinda / meri zindagi / moksha / ranbhoomi / when i was old / you n me / my gloomy sunday / the little bird / khanabadosh / voice of failure / i m not smoker

Tuesday, August 21, 2012

प्रोटोकॉल

मीटिंग में फरमान आया
साहब का फ़ोन घनघनाया
श्रीमान जी बोले व्यस्त हूँ
मीटिंग में बीच में पस्त हूँ
थोड़े देर में कॉल बैक करता हूँ
पहले कार्यालय के भूतो से निपटता हूँ
निविदा नीलामी के फाइलो में 
साहब का दिन गुजर गया 
कॉल बैक का आश्वासन 
मीटिंग की तरह अधुरा रह गया 
जब पहुंचे घर तो
घर में सन्नटा पाया
सास बहु की सीरियल में
साजिशो का अंबार पाया 
कुछ न पूछा कुछ न बताया 
श्रीमती जी ने किचन में कदम बढाया 
श्रीमान जी को हुआ अंदेशा 
खाने पर है आज जलने का साया 
कुछ तो किया हैं
लेकिन कुछ याद न आया
जानने के लिए बीवी की
तारीफों का कसीदा सुनाया
दो तीन रोटियों के जलने के बाद
मेहनत का फल सामने आया
जब गड़े पुराने किस्सों का
बीवी ने ताना सुनाया
फिर आयी वो मुद्दे पे
जब इस बार का गुनाह बताया
किया था तुमको फ़ोन
तुमने सौतन मीटिंग के लिए
मुझको ठुकराया
आगे से ऐसा न करना
पहले मुझसे बात ही करना
नहीं तो ऐसे ही शाम को पछताओगे  
न टीवी देख पायगे
न खाना खा पाओगे
शादी का था प्रोटोकॉल समझाया
जब श्रीमती जी ने था फोन घुमाया

1 comment:

Sweta said...

ye aapki aap biti tho nahi lagti hai OPji :)