ये दिल हैं मुश्किल / मैं लिखता नहीं हूँ / छलांग / शायर के अफसाने / दूर चले / शिव की खोज / गली / सर्द ये मौसम हैं / कभी कभी-2 / कभी कभी / मेरे घर आना तुम / शादी की बात - २ / धुप / क्या दिल्ली क्या लाहौर / बड़ा हो गया हूँ / भारत के वीर / तुम्हे / अंतिम सवांद / बाबु फिरंगी / प्रोटोकॉल / इश्क / कसम / चाँद के साथ / शब्दों का जाल / तुने देखा होता / वियोग रस / हंगामा / साली की सगाई / राखी के धागे / संसद / अरमान मेरे / कवितायेँ मेरी पढ़ती हो / रात का दर्द / भूख / बूढी माँ / जिनके खयालो से / इश्क होने लगा है / रंगरेज़ पिया / तुम / मेरी कविताये यु न पढ़ा करो / ट्रेफिक जाम / तेरा ख्याल / लोकतंत्र का नारा / मेरे पाँव / सड़के / वो शाम / शादी की बात / रेत का फूल / वो कचरा बीनता है / भीगी सी याद / ख़ामोशी / गुमनाम शाम / कवि की व्यथा / कभी मिल गए तो / दीवाने / माटी / अग्निपथ / गौरिया / लफंगा सा एक परिंदा / भूतकाल का बंदी / इमोशनल अत्याचार / तेरी दीवानी / नीम का पेड़ / last words / परवाना / लोरी / आरज़ू / प्रेम कविता / रिश्ते / नया शहर / किनारा / एक सपना / ख्वाहिश / काश / क्या कह रहा हु मैं / future song / naqab / duriya / sharabi / Zinda / meri zindagi / moksha / ranbhoomi / when i was old / you n me / my gloomy sunday / the little bird / khanabadosh / voice of failure / i m not smoker

Monday, April 05, 2010

रिश्ते

अनलिखे ख़त के है कभी कागज़ कोरे
कभी किताब में दबे से भूले ये बिसरे
रिश्ते आखिर है ये कैसे सिलसिले
हम न समझे फिर भी निभाते रहे

एक थी मंजिले और एक थे रस्ते
आज है वो हमसफ़र क्यों अनजाने
सांसो को भी छु लेने कि कभी नजदिकिया
और कभी नाम भी न ले पाने कि दुरिया
कभी सुरमई शाम की है ठंडी हवा
है कभी तपते सूरज की गर्मिया
रिश्ते आखिर है कैसी ऋतुये
बिना वक़्त के यह बदल जाये

आँचल के पीछे से है झाकते
छोटे होने की जिद में है लड़ते
कभी यु ही मुह फुलाये बैठे रहे
और कभी आके खुदसे गुदगुदाए
जिनके बिना कभी जीना था मुश्किल
कही दूर ही छुट जाये हो जाये ओझिल
रिश्ते आखिर है ये कैसे है बूँदें
बारिश हो फिर भी रह जाये सूखे

2 comments:

main_sachchu_nadan said...

Wah OP saab, rishto ki nai paribhashao ke sath utare hai aap is baar maidan mein :-)
Lage raho OP bhai ;-)

Rakhee said...

Too good and very true...I think everybody must be feeling the same...bus tumhari tarah karamaati shabd nahi hai... :)